Information about Fate line

1.गहरी रेखा (Deep Fate line):हाथ में भाग्य रेखा गहरी है तो यह इस बात का संकेत है कि आपको अपने भाग्य की मदद से पैतृक सम्पत्ति और विभिन्न प्रकार के लाभ मिलेंगे। आपकी उन्नति में आपके बुजुर्गों का सहयोग रहेगा।

2.कमज़ोर रेखा (Light Fate line): भाग्य रेखा कमज़ोर होने से इस बात का संकेत मिलता है कि आपको जीवन में असफलताओं एवं मुश्किलों का सामना करना होगा। आपकी जिन्दग़ी में निराशा के बादल छाये रहेंगे। लेकिन अगर आपके हाथ में सूर्य रेखा मजबूत है तो आप सफलता प्राप्त करसकते हैं, इसी प्रकार अन्य रेखाओं एवं पर्वतों के प्रभाव से भी परिणाम बदल सकता है।

3.विभाजित रेखा (Divided Fate Line):भाग्य रेखा अगर दो भागों में विभाजित हो या टूटकर अंग्रेजी के Y की तरह दिखे तो यह द्वंद की स्थिति बनाता है यानी आप आप अपना लक्ष्य लक्ष्य सही प्रकार से निर्घारित नहीं कर पाते हैंऔर मन में उठते विचारों से लड़ते हैं। एक शब्द में कहें तो आप दो नाव की सवारी करते हैं।

4.आड़ी तिरछी रेखा (Zig Zag Fate Line): हथेली में भाग्य रेखा अगर आड़ी तिरछी हो तो समझ लीजिए आपकी जिन्दग़ी में काफी उतार-चढ़ाव व परिवर्तन आने वाला हैं। आप जीवन में संघर्ष और बाधाओं को पार करके ही अपने भाग्य का फल प्राप्त कर पाएगे। आपको आसानी से कुछ भी मिलने वालानहीं है। इस प्रकार की रेखा यह भी बताती है कि आप निर्णय की घड़ी में उहापोह में रहते हैं अर्थात क्या करें क्या नकरें वाली स्थिति आपकी हो जाती है।

5.टूटी रेखा (Broken Fate Line): भाग्य रेखा अगर टूटी हुई है तो जहां पर यह रेखा टूटी है वहां पर आपको खतरा हो सकता है अर्थात उस उम्र में आपके साथ कोई दुर्घटना घट सकती है अथवा आप गंभीर रूप से बीमार हो सकते हैं। कुल मिलाकर कहा जाय तो उम्र के इस पड़ाव में कुछ भी ऐसा हो सकता है जिससे जीवन पर संकट आ सकता है। आपका यह समय कष्टमय रहेगा।

6.जंजीरदार या लहरदार रेखा (Chained Fate Line):भाग्यरेखा जंजीरदार या लहरदार हो तो यह इस बात का संकेत है कि आपके कार्यो में उतार चढ़ाव बना रहेगा, आप सफलता और असफलता के बीच हिचकोले खाते रहेंगे। आपका काम कभी तो असानी से बन जाएगा तो कभी छोटा मोटा काम निकलवाने के लिए भी आपको कड़ी मेहनत करनी होगी।

7.अदृश्य रेखा(Invisible Fate Line) :यह जरूरी नहीं कि जिनकी हथेली में भाग्य रेखा होती है उन्हीं का भाग्य होता है, जिनकी हथेली में भाग्य रेखा नहीं होती है उनका भी भाग्य होता है ऐसा हस्त रेखा विज्ञान कहता है। जिनकी हथेली में भाग्य रेखा नहीं होती है उनका भाग्य अन्य रेखाओं के आंकलन के आधार पर ज्ञात किया जाता है। कह सकते हैं कि, जिनकी हथेली में भाग्य रेखा नहीं दिखती हो उन्हेंनिराश होने की जरूरत नहीं है

*.यदि भाग्य रेखा का उदगम जीवन रेखा से होता है तो व्यक्ति अपने जीवन मे बहुत सफल एवं अपार धन अर्जित करताहै ।
*.यदि भाग्य रेखा कलाई से निकलती है, तो यह दर्शाती है कि व्यक्ति अपने जीवन मे अपनी इच्छाओं का बलिदान अपने माता पिता या रिश्तेदार के लिये करता है।
*.यदि भाग्य रेखा कलाई से निकलती हुई सीधे शनि पर्वत तक जाती है, तो यह अच्छी किस्मत और असाधारण सफलता का संकेत होता है ।
*.यदि भाग्य रेखा चंद्र पर्वत पर मिलती है, तो उसकी सफलताअन्य लोगों की योजना पर निर्भर करती है।*.यदि भाग्य रेखा सीधी हो और किसी पर्वत की तरफ़ झुकाव हो तो यह दर्शाता है कि व्यक्ति की सफलता उस पर्वत की विशेषताओं से संबंधित क्षेत्र पर आधारित होंगी।
*.यदि भाग्य रेखा गुरु पर्वत के केन्द्र तक जाये तो इससे पता चलता है कि व्यक्ति असामान्य शक्ति का मालिक होता है, उसके जीवन मे अच्छा समय आता है ।
*.यदि भाग्य रेखा की एक शाखा गुरु पर्वत पर मिलती है तो व्यक्ति विशेष रुप से उसके चरण मे सामान्य से अधिक सफलता पाता है ।
*.यदि भाग्य रेखा हथेली को पार करती हुई शनि की ऊँगली तक जाए तो यह एक अच्छा सकेत नही है, उस व्यक्ति से सफलता ही नही वरन सभी कुछ बहुत दूर हो जाता है ।
*.यदि जीवन भाग्य, ह्रदय रेखा पर अचानक आकर रुक जाए तो ऐसेव्यक्ति की सफलता उसकी भावनाओ पर निर्भर करती है ।
*.यदि भाग्य रेखा, मष्तिष्क रेखा पर आकर रुक जाए तो यह दर्शाता है कि व्यक्ति की मूर्खता और बड़ी भूल के कारण उसे सफलता नही मिलती है ।
*.यदि भाग्य रेखा मंगल स्थान के अंत तक भी नही पहुचती हो तो ऐसा व्यक्ति जीवन मे कड़ी चुनौती, कठिनाइयो और परेशानियो का सामना करता है ।
*.यदि भाग्य रेखा का उदगम मष्तिष्क रेखा से हो और वह साफ सुथरी एवं स्पष्ट भी हो तो ऐसे व्यक्ति की सफलता कठिन संघर्ष के बाद एवं प्रतिभा के द्वारा प्राप्त होती है।*.यदि भाग्य रेखा का उदगम ह्रदय रेखा से हो तो ऐसे व्यक्ति को सफ़लता देर से प्राप्त होती है और उसे संघर्ष भी करना पड़ता है।